Gam bhari shayari : Best Collections in hindi

Gam bhari shayari : Best Collections in hindi : Lets read hindi shayari of Gam bhari Shayari that you can share in your Facebook status or WhatsApp status.

Gam bhari shayari : Best Collections in hindi

Gam bhari shayari

 1) 

कहने को तो रौनक है जहां में

क्यूं फिर मेरे ही आंगन में अंधेरा है।

दुनिया की खुशियों के बीच 

क्यूं सारा गम सिर्फ मेरा है।

Kahane ko to raunak hai jahaan mein
kyoon phir mere hee aangan mein andhera hai.
duniya kee khushiyon ke beech
kyoon saara gam sirph mera hai.

2) 


चाहत बहुत थी जिंदगी में

पूरी एक भी ना हुई।

गम का दामन ही थामा रहा हमेशा

खुशियां मेरी एक भी पूरी नहीं हुई।

Chaahat bahut thee jindagee mein
pooree ek bhee na huee.
gam ka daaman hee thaama raha hamesha
khushiyaan meree ek bhee pooree nahin huee.


3) 

मेरे आंगन में खेल कर

मेरे यार बहुत इतराते थे।

आज वो पूछते भी नहीं

जो कल मेरे घर आते थे।

हम मुस्कुरा दिए 

उनकी इस हरकत पर

वो ये भी ना समझे 

हम क्या क्या गम छिपाते थे।

mere aangan mein khel kar
mere yaar bahut itaraate the.
aaj vo poochhate bhee nahin
jo kal mere ghar aate the.
ham muskura die
unakee is harakat par
vo ye bhee na samajhe
ham kya kya gam chhipaate the.


4) 

दिल क्यूं बार बार

उस एक शख्स को तरसता है।

खुशियां सारे जहां की ठुकराकर

उस एक के गम को तरसता है।

Dil kyoon baar baar
us ek shakhs ko tarasata hai.
khushiyaan saare jahaan kee thukaraakar
us ek ke gam ko tarasata hai.


5) 

मेरा दर्द ही मेरा हमदर्द है अब

कोई दूसरा मुझे चाहिए ही नहीं।

मेरी हंसी को भी नजर मेरे अपनों की लगी

किसी और से उम्मीद करूं कैसे?

Mera dard hee mera hamadard hai ab
koee doosara mujhe chaahie hee nahin.
meree hansee ko bhee najar mere apanon kee lagee
kisee aur se ummeed karoon kaise?


6) 

दिल के बड़े करीब थे वो

हमें बहुत अज़ीज़ थे वो।

भूल गए थे हम

जिनके बिना सांस लेना

किसी और के साथ

हंसते रहे वो।

Dil ke bade kareeb the vo
hamen bahut azeez the vo.
bhool gae the ham
jinake bina saans lena
kisee aur ke saath
hansate rahe vo.


7) 

मेरी उंगलियों पर हवा

लिख रही आज अपनी कहानी है।

कहती है कि गम से भरी

उसकी भी पुरानी एक कहानी है।

मेरी तरह रोई वो भी

किसी और के कारण थी

कुछ मेरे जैसे ही उसकी कहानी है।


Meree ungaliyon par hava
likh rahee aaj apanee kahaanee hai.
kahatee hai ki gam se bharee
usakee bhee puraanee ek kahaanee hai.
meree tarah roee vo bhee
kisee aur ke kaaran thee
kuchh mere jaise hee usakee kahaanee hai.


8) 

वो छोड़ कर गए

इस बात का दुख नहीं।

उन्होंने मुड़ के एक बार भी

देखा नहीं पीछे

इस बात का गम है।

Wo chhod kar gae
is baat ka dukh nahin.
unhonne mud ke ek baar bhee
dekha nahin peechhe
is baat ka gam hai.


खूबसूरती बहुत है दुनिया में

चारों तरफ रंग ही रंग हैं।

मुझे मुस्कुराहट देने वाला कोई नहीं

हवा भी बनी मेरी दुश्मन है।

Khoobasooratee bahut hai duniya mein
chaaron taraph rang hee rang hain.
mujhe muskuraahat dene vaala koee nahin
hava bhee banee meree dushman hai.


10) 

मेरी मुस्कुराहटें बहुत शातिर हैं

अपनी बनावट में इन्होंने

हमेशा से बहुत गम छिपाए हैं।

Meree muskuraahaten bahut shaatir hain
apanee banaavat mein inhonne
hamesha se bahut gam chhipae hain.


कहते रहे तुम मोहब्बत है

हम सच मान बैठे थे।

उस यकीन का हरजाना

आज तक भुगत रहे हैं।

Kahate rahe tum mohabbat hai
ham sach maan baithe the.
us yakeen ka harajaana
aaj tak bhugat rahe hain.


12) 

रुला देती हैं मेरी ही बातें मुझे

दिल इतना नरम है मेरा।

तू चली गई थी जब

तो सोच क्या हाल हुआ होगा मेरा।

Rula detee hain meree hee baaten mujhe
dil itana naram hai mera.
too chalee gaee thee jab
to soch kya haal hua hoga mera.


लबों पे मेरे आज शिकायत नहीं कोई

बस दुआ दिल से निकलती है।

जो खेल मुझ संग खेला

वो कभी तुझे भी खेलने को मिले

मैं जी रहा हूं यादों में तेरी

भले ही जिंदगी में सिर्फ गम है।

Labon pe mere aaj shikaayat nahin koee
bas dua dil se nikalatee hai.
jo khel mujh sang khela
vo kabhee tujhe bhee khelane ko mile
main jee raha hoon yaadon mein teree
bhale hee jindagee mein sirph gam hai.


कहती थी मासूम आंखे उसकी

उसे सिर्फ मेरी ही चाहत है।

मैं कभी समझ ही नहीं पाया

उसके प्यार को जो मैंने इतना ठुकराया

गम में उसके अब

मेरी रातों को राहत है।

Kahatee thee maasoom aankhe usakee
use sirph meree hee chaahat hai.
main kabhee samajh hee nahin paaya
usake pyaar ko jo mainne itana thukaraaya
gam mein usake ab
meree raaton ko raahat hai.


15) 

खुदा करे उसे सब खुशियां मिले

जो मैं उसे कभी दे नहीं पाया।

उसके लबों पे हंसी हमेशा रहे

उसने मुझसे हमेशा गम ही था पाया।

Khuda kare use sab khushiyaan mile
jo main use kabhee de nahin paaya.
usake labon pe hansee hamesha rahe
usane mujhase hamesha gam hee tha paaya.


दिल बार बार कहता था

तुझे रोक लूं अपने पास।

फिर देखा उन गमों को

जो मैंने तुझे दिए थे।

कैसे सहा तूने वो सब

मुझे मान कर अपना सबसे ख़ास।

Dil baar baar kahata tha
tujhe rok loon apane paas.
phir dekha un gamon ko
jo mainne tujhe die the.
kaise saha toone vo sab
mujhe maan kar apana sabase khaas.


17) 

बिछड़ के मुझसे

कहां तुम जाओगे।

तोड़ कर सपने मेरे

और कितना पछताओगे।

Bichhad ke mujhase
kahaan tum jaoge.
tod kar sapane mere
aur kitana pachhataoge.


18) 

गम बहुत हैं जिंदगी में

तो अफसोस मत करना।

भरोसा रखना अपने अपनों पर

किसी गैर के लिए मत मरना।

Gam bahut hain jindagee mein
to aphasos mat karana.
bharosa rakhana apane apanon par
kisee gair ke lie mat marana.


19) 

शाम ढलती है जब

अंधेरा मेरे मन में हो जाता है।

प्यार जैसे जिंदगी से

कोसों दूर चला जाता है।

Shaam dhalatee hai jab
andhera mere man mein ho jaata hai.
pyaar jaise jindagee se
koson door chala jaata hai.

20)


अक्सर गलती कर देते हैं लोग

पहचानने में सच और झूठ को।

फिर खुशियों से नाता तो कर

जिंदगी भर झेलते हैं गम को।

Aksar galatee kar dete hain log
pahachaanane mein sach aur jhooth ko.
phir khushiyon se naata to kar
jindagee bhar jhelate hain gam ko.



Leave a Reply